बारिश में जाइए सतपुड़ा में स्थित इन दर्शनीय स्थलों को देखने

बारिश में जाइए सतपुड़ा में स्थित इन दर्शनीय स्थलों को देखने।

सतपुड़ा भारत के मध्य भाग में स्थित एक पर्वतमाला है। सतपुड़ा पर्वतश्रेणी नर्मदा एवं ताप्ती की दरार घाटियों के बीच राजपीपला पहाड़ी महादेव पहाड़ी एवं मैकाल श्रेणी के रूप में पश्चिम से पूर्व की और विस्तृत है। पूर्व में इसका विस्तार छोटा नागपुर पठार तक है। यह पर्वत श्रेणी एक ब्लाक पर्वत है , जो मुख्यत: ग्रेनाइट एवं बेसाल्ट चट्टानों से निर्मित है। इस पर्वत श्रेणी की सर्वोच्च चोटी धूपगढ़ 1350 मीटर है , जो महादेव पर्वत पर स्थित है। सतपुड़ा रेंज के मैकाल पर्वत में स्थित अमरकंटक पठार से नर्मदा तथा सोन नदियों का उदम होता है।

पंचमढ़ी हिल स्टेशन की यात्रा

पचमढ़ी मध्य प्रदेश एकमात्र हिल स्टेशन। पचमढ़ी सतपुड़ा की रानी या क़्वीन ऑफ़ सतपुड़ा की श्रेणी में स्थित है। पचमढ़ी सतपुड़ा रेंज में 1067 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। पचमढ़ी हिल स्टेशन की यात्रा में घूमने के लिए कई जगह है जैसे ऐतिहासिक स्मारक , झरने , प्राकृतिक क्षेत्र , गुफा , जंगल और कई अन्य दर्शनीय स्थल। जहाँ प्रकृति प्रेमी पंचमढ़ी की सुन्दरता का अनुभव कर सकते है। पंचमढ़ी हिल स्टेशन पर बने घर औपनिवेशिक वास्तुकला शैली हुए है।

पचमढ़ी के दर्शनीय स्थल :- पचमढ़ी में पर्यटकों के लिए कई स्थान है। पचमढ़ी में स्थित धूपगढ़ विंध्य सतपुड़ा श्रेणी का और मध्य भारत का सबसे उच्चतम बिंदु है। रोचक रूप से पचमढ़ी तश्तरी के आकार का हिल स्टेशन है। पचमढ़ी सैनिक छावनी के लिए भी प्रसिद्ध है। पचमढ़ी अपनी प्राचीन गुफाओं , स्मारकों , जलप्रपातों , प्राकृतिक सुंदरता , जंगलों और वनस्पतियों और जीव जन्तुओ के लिए प्रसिद्ध है।

  • पचमढ़ी के पर्यटन स्थलों का भ्रमण
  • पचमढ़ी में बी वॉटरफॉल
  • जटा शंकर गुफाएँ
  • पांडव गुफा पचमढ़ी
  • धूपगढ़
  • हांड़ी खोह पचमढ़ी
  • महादेव हिल्स पचमढ़ी
  • डचस झरना पचमढ़ी
  • सतपुड़ा राष्ट्रिय उद्यान पचमढ़ी
  • प्रियदर्शिनीप्वाइंट पचमढ़ी
  • चौरागढ़ मंदिर पचमढ़ी और आदि स्थानों पर घूम कर उसका आनंद उड़ा सकते हो।

चिखलदरा (Chikhaladara)

भारत के महाराष्ट्र राज्य के अमरावती जिले में स्थित एक शहर है। यह एक रमणीय पहाड़ी क्षेत्र है जो पर्यटकों को आकर्षित करता है। समीप ही मेलघाट बाघ अभयारण्य स्थित है।

अगर आप घूमने के शौकीन है तो महाराष्ट्र में चिखलदरा जगह आपके लिए बेस्ट ट्रेवल डेस्टिनेशन हो सकता है। शहर से दूर और एकदम शांत है ये जगह। यहाँ का मौसम भी इतना सुहाना होता है की यहाँ हर दिन हजारों घूमने के लिए आते है। महाराष्ट्र की जगह खूबसूरत झील , धार्मिक स्थल और प्राचीन इतिहास के लिए जाना जाता है। इस जगह को महाभारत काल के कई रहस्यों के लिए भी जाना जाता है। अगर आप महाराष्ट्र के लोनावला घूम-घमू के थक चुके अब समय है कुछ जगह जाने की। मुंबई-पुणे से भी लोग यहाँ दृश्यों का आनंद लेने के लिए आते है। तो चलिए जानते है चिखलदरा के कुछ बेस्ट डेस्टिनेशन के बारे में –

चिखलदरा में घूमने योग स्थल

  • पंचबोल पॉइंट
  • गुगामल नेशनल पार्क
  • भीम कुंड
  • चिखलदरा और महाभारत
  • मेलघाट टइगर रिज़र्व
  • नरनाला फोर्ट
  • ग्वालीगढ़ फोर्ट
  • मुक्तागिरी
  • बीर लाक
  • कालापानी लाक
  • आमनेर फोर्ट
  • मुसुम्स
  • पॉइंट्स आदि स्थनों पर घूम कर उसका आनंद ले सकते है।

तामिया पातालकोट

पर्यटन के नक़्शे में शुमार और मिनी पचमढ़ी कहलाने तामिया पर्यटकों की पहली पसंद बन गया है। पर्यटन क्षेत्र के रूप में विकसित हो रहे तामिया के दर्शनीय स्थल पातालकोट में प्रतिवर्ष होने वाले एडवेंचर स्पोर्ट्स में दूर -दूर के प्रकृति प्रेमी जुटने है। तामिया में बारहमासी पर्यटकों की आवाजाही रहती है। तामिया में घूमने में घूमने के लिए अनेको स्पॉट है साथ ही घूमने फिरने , खाने पीने की रहने की बेहतर सुविधाएं उपलब्ध है। जिला मुख्यालय में 56 किलोमीटर दुरी पर स्थित तामिया प्राकृतिक नज़रों से भरपूर है।

तामिया पातालकोट ट्रेकिंग तामिया के पास छिपे हुए स्थानों को कवर करेगी जिसमें पातालकोट घाटी, ज़िंगारा झरना और एंटोनी गांव शामिल हैं। इसलिए मध्य प्रदेश के बेरोज़गार हिस्से का पता लगाएं, तामिया और छोटा महादेव क्षेत्र का मनोरम दृश्य प्राप्त करने के लिए लंबी पैदल यात्रा के साथ शुरुआत करें, जो आपको मानसून की छुट्टी को एक असली अनुभव प्रदान करता है।

तामिया पातालकोट में घूमने योग स्थल

  • छोटा महादेव
  • वल्चर पॉइंट
  • तुलतुला पहाड़
  • सिंहवाहिनी नैनादेवी मंदिर
  • ग्वालगढ़ पहाड़ी और जलाशय
  • चीड़ पॉइंट
  • पातालकोट
  • रातेड़
  • गैलडुब्बा
  • चिमटीपुर रेस्टहाउस
  • गिरिजामई
  • अन्होनी कुंड
  • सतधारा आदि स्थनों पर घूम पर उसका आनंद ले सकते है।

मुक्तगिरि जैन मंदिर

जैनियों को पवित्र तीर्थ स्थल बैतूल जिले में स्थित है। यहाँ पर 52 मंदिर है। कुछ मंदिर चट्टानों के अंदर बने है। निर्जन तथा वनों से आच्छादित गुफाओं तथा पर्वत शिखरों पर निर्मित यह मंदिर बड़े आकर्षक दिखाई देते है।

मुक्तगिरि बैतूल जिला का एक दर्शनीय स्थल है। मुक्तगिरि पुरे भारतवर्ष में प्रसिद्ध है। यहां पर आपको जैन मंदिर देखने मिलते है। मुक्तगिरि मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र की सिमा पर पड़ता है। मुक्तगिरि बैतूल जिले में भैसदेही तहसील अंतर्गत आता है। मुक्तगिरि के जैन मंदिर 13 वी – 14 वी शताब्दी के दौरान बनाया गए थे।

मुक्तगिरि के इन जैन मंदिर में जाने के लिए आपको पैदल ही पहाड़ों पर जाना पड़ता है। आपको यह कार्य बहुत रोमांचक लगेगा। मुक्तगिरि में जैन मंदिर के आलावा आपको एक जलप्रपात भी देखने मिलता है। यह जल प्रपात आपको बरसात के समय देखने के मिलता है। यहाँ पर रहने और खाने की भी व्यवस्था उपलब्थ है। यहाँ पर आप यात्रा के लिए कभी भी है। यहाँ पर यात्रा का निश्चित समय है।

कुकरू खामला हिल स्टेशन

कुकरू महाराष्ट्र और मध्यप्रदेश की सिमा पर स्थित एक खूबसूरत दर्शनीय स्थल है। यह बैतूल जिले की भैसदेही तहसील के अंतर्गत आता है कुकरू गांव बैतूल जिले की मनोरम जगह है। आप यहाँ पर घूमने जा सकते है। यहाँ पर आपको खूबसूरत पहाड़ियों का दृश्य देखने के लिए मिलता है। यहाँ पर कॉफी के बागान में भी घूम सकते है। कुकरू सूर्यास्त और सूर्योदय के लिए प्रसिद्ध है। यह पर आकर सूर्यास्त का मनोरम दृश्य देख सकते है।

यहाँ पर आप बरसात के समय घूमने के लिए आ सकते है। बरसात के समय कुकरू स्वर्ग जैसी लगती है। यहाँ पर आपको हर जगह पर छोटे-छोटे झरने देखने मिल जाते है। कुकरू में आपको ठहरने के लिए होटल भी मिल जाते है। आप सरकारी वेवसाईड पर जाकर कुकरू जाने के लिए बुकिंग करा सकते है। इसमें आपको अलग -अलग पैकेज मिल जाएगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *