तुअर दाल खाने के फायदे और नुकसान।

दाल का नाम आते ही सबसे पहले जेहन में पीले रंग की अरहर दाल यानी तूअर दाल का नाम आते हैं। यह एक ऐसी दाल है कि हर एक घर पर बनती है। अरहर की दाल खाने से हमारे शरीर को कई तरह के पोषक तत्व मिलते हैं। इसमें प्रोटीन, फैट, कार्बोहाइड्रेट्स जैसे पोषक तत्व होते हैं। ये दाल प्रोटीन और फाइबर का बहुत बड़ा स्रोत है , और कॉलेस्ट्रॉल फ्री है।

तुअर की दाल को अरहर की दाल भी कहा जाता है। इसमें खनिज, कार्बोहाइड्रेट, लोहा, कैल्शियम आदि पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है। अतः रोगी को भी दी जा सकती है, परंतु गैस, कब्ज एवं साँस के रोगियों को इसका सेवन कम ही करना चाहिए।

तुअर दाल में काफी फाइबर होता है. इससे कब्ज की समस्या से छुटकारा मिलता है। ,नियमित रूप से फाइबर लेने से दिल संबंधी रोग, स्ट्रोक आदि नहीं होते है। इसे प्रोटीन का अच्छा स्रोत माना जाता है.

तुअर दाल के फायदे।

  • शारीरिक विकास के लिए तुअर दाल का करे सेवन।
    दुनियाभर में तुअर की दाल भोजन का एक जरुरी हिस्सा बन चूकी है इसका कारण है की तुअर दाल में प्रोटीन भरपूर मात्रा में पाया जाता है। कप पकी हुई तुअर दाल में लगभग 11 ग्राम प्रोटीन होता है। जो हमारे शरीर की सम्पूर्ण वृध्दि एवं विकास के लिए बहुत आवश्यक है। प्रोटीन हमारी मांसपेशियों , हड्डियों और कोशिकाओं का निर्माण करने में हमारी मदद करता है।
  • खून की कमी करताी है तुअर दाल खाने से ।
    शरीर में होने वाली खून की कमी को पूरा करने के लिए तुअर की दाल सेवन करना बहुत ज्यादा फायदेमंद होता है। तुअर की दाल में उपस्थित फोलेट, जो हमारे शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं को बढ़ाने में सहायक होता है , जो खून की कमी को पूरा करने में मदद करता है। शरीर में फोलेट की कमी से खून की भी कमी होती है , जिसे हमें एनीमिया का खतरा बना है। इस लिए तुअर दाल का सेवन एनीमिया के लिए फायदेमंद होता है।
  • ह्रदय स्वास्थ्य के लिए
    ह्रदय समस्याओं को दूर करने के लिए तुअर की दाल का सेवन करना लाभदायक होता है। तुअर की दाल में पोटेशियम , फाइबर और निम्र स्तर में कोलेस्टॉल पाया जाता है , जो ह्रदय स्वास्थ्य के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है। फाइबर , कोलेस्ट्रॉल के स्तर को सामान्य रखने मदद करता है , जो दिल से जुड़ी समस्याओं को दूर करने में सहायक होता है। पोटेशियम शरीर में रक्त के दबाव को कम करने के साथ दिल के तनाव को भी दूर करने में सहायक होता है।
  • पाचन स्वास्थ्य के लिए
    पाचन स्वास्थ्य के लिए तुअर की दाल खाना लाभदायक होता है। तुअर की दाल में फाइबर की भरपूर मात्रा पाए जाने के कारण , यह हमारी पाचन क्रिया को बेहतरीन बनाये रखने का कार्य करता है साथ ही पाचन से जुडी समस्याओं को दूर करने में भी मदद करता है
  • प्रेगनेंसी के लिए
    महिलाओं को प्रेगनेंसी के दौरान ज्यादा पोषक तत्वों का सेवन करना जरूरी होता है और वहीं हल्के व सुपाच्य भोजन होना चाहिए। इस पैमाने पर यह सबसे बेहतर विकल्प होता है। फोलिक एसिड से भरपूर यह तुअर की दाल कार्बोहाइड्रेट्स का भी एक अच्छा स्रोत होता है। फाइबर की मात्रा होने की वजह से गैस की समस्या भी नहीं होती है और पाचन तंत्र सही से काम करता रहता है।

तुअर दाल के नुकसान।

पौष्टिक तत्वों से भरपूर अरहर की दाल कई बीमारियों से बचाती हैं लेकिन कुछ चीजों के साथ इसका सेवन करना हानिकारक हो सकता है।
तुअर दाल का अधिक सेवन करना हानिकारक हो सकता है। क्योंकि तुअर की दाल में फाइबर की मात्रा अधिक पाए जाती है , शरीर में फाइबर की अधिक मात्रा पेट दर्द और दस्त का कारण बन सकती है। कुछ संबेदनशील लोगों में तुअर की दाल से एलर्जी हो सकती है। ऐसे लोग तुअर की दाल का सेवन करने से बचें डॉक्टर की सलाह बाद ही तुअर दाल का सेवन करें।

आयुर्वेद के अनुसार अरहर की दाल के इतने फायदे हैं उसी तरह इसका सेवन कुछ चीजों के साथ करने से आपकी सेहत के लिए नुकसानदायक हो सककती है

तुअर दाल का सेवन मीट के साथ न करें।

दोनों का साथ में सेवन करने से फूड पॉइजनिंग की समस्या हो सकती है। साथ ही इससे उल्टी, दस्त व पेट दर्द की परेशानी हो सकती है। आयुर्वेद के अनुसार अरहर की दाल और मीट दोनों में अधिक मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है। दोनों को साथ लेने से पाचन क्रिया पर ज़्यादा ज़ोर पड़ेगा और जिसके कारण पेट संबंधी समस्या हो सकती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *